मोटापा कम करने का प्राकृतिक तरीक़ा

जब शरीर पर अत्यधिक वसा जम जाती है तो उस स्थिति को मोटापा कहते हैं।

यह अत्यधिक वसा स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव डालती हैं इसके कारण हमारे शरीर की कार्य प्रणाली बिगड़ जाती है।

मोटापे का कारण-

आपके द्वारा जो भोजन का सेवन किया जाता है उससे ऊर्जा पैदा होती है। उस ऊर्जा का उपयोग शरीर द्वारा किया जाता है जब इसका असंतुलन हो जाता है तो शरीर पर वजन बढ़ने लगता है।

जैसे यदि आप कम व्यायाम करते हैं और ज्यादा भोजन लेते हैं तो शरीर पर चर्बी जमा होने लगती है। धीरे-धीरे यह मोटापे का रूप ले लेता है। कुछ लोगों को दिन में सोने की आदत होती है यह भी मोटापे का एक प्रमुख कारण है।

इसका प्रमुख कारण आहार है। जब हम आहार लेते हैं और उस हिसाब से शारीरिक श्रम नहीं करते हैं या गलत आहार लेते हैं तो हमारे शरीर के ऊपर चर्बी के रूप में जमा होता चला जाता है।

OBESITY मोटापे के लक्षण

प्रमुख लक्षण इस प्रकार से हैं कि आपका वजन आपकी लंबाई के अनुपात में होना चाहिए। पैदल चलने में आपकी सांस फूलती है। शरीर भारी भारी सा रहता है।

आपको पसीना ज्यादा आता है आप खर्राटे लेते हैं, शरीर फूला फूला सा रहता है, आप शारीरिक गतिविधियों को करने में असमर्थ महसूस करते हैं, प्रतिदिन थकान महसूस करते हैं।

आपको क्या समस्याएं हो सकती है

डायबिटीज मुख्य रूप से और ब्लड प्रेशर, जोड़ों का दर्द ओस्टियोआर्थराइटिस, यूरिन इन्फेक्शन, अस्थमा,फेफड़े की समस्याएं, हृदय रोग, डिप्रेशन, स्ट्रोक, प्रजनन संबंधी समस्याएं और कई प्रकार के कैंसर।

आपको क्या करना चाहिए मोटापे को कम के लिए

इसको कम करने के लिए आपको सबसे पहले अपने आहार में परिवर्तन करना चाहिए। दूसरे नंबर पर व्यायाम को नियमित रूप से करना चाहिए।

मोटापा घटाने का यही दो प्रमुख उपाय हैं बिना इन उपायों को किए किसी भी प्रकार से मोटापा कम होने वाला नहीं है। चाहे कितनी भी मोटापा कम करने वाली दवाइयां खा लें मोटापा कम नही होगा।

यदि आप मोटापे को अप्राकृतिक रूप से कम करने की कोशिश करेंगे तो निश्चित रूप से आपके शरीर पर साइड इफेक्ट होंगे।

इसलिए सबसे पहले आपको आहार में परिवर्तन करना है और व्यायाम को अपनी प्रतिदिन की दिनचर्या में शामिल करना है बस यह दो ही चीजें ऐसी हैं जो 3 से 4 महीने के अंदर आपको पूर्ण रूप से मोटापे को कम करके शरीर को स्वस्थ बनाते हैं।

अब आप कहेंगे कि आहार में हमें क्या लेना चाहिए?

आहार लेने का तरीका ऐसा होना चाहिए सुबह सबसे पहले उठकर आप पानी पी सकते हैं उसके बाद नित्य कर्म शौच आदि से निवृत्त होकर व्यायाम करें फिर अपना ब्रेकफास्ट लें और ब्रेकफास्ट में ताजे फल सीजन के खाए,

लंच में जितनी मात्रा में आपका भोजन हो उतनी मात्रा में सलाद होना चाहिए। पहले सलाद खाइए फिर भोजन करिए ऐसे ही डिनर में करना है।

खाने में आपको यह चीजें नहीं लेनी है

खाने में आपको समोसा, कचोरी,जलेबी अधिक मीठे पदार्थ, चाय कॉफी, बिस्किट, तेल से बने हुए पदार्थ, तले हुए पदार्थ, पिज्जा बर्गर, पूरी पराठे, नमकीन, पैक्ड फ़ूड, अंडा, मछली, मीट, डेयरी प्रोडक्ट से बचें।

हमारे शरीर पर यह मोटापा जमा हो गया है यह सब खाने पीने और गलत रहन सहन की वजह से हो गया है। यदि आप इस लेख को मन मे उतार लें तो आपको मोटापा घटाने से कोई नही रोक सकता।

खाने में आपको क्या खाना है

दाल चावल, सब्जी, रोटी , सलाद, फल खाने का तरीका ऊपर बताया यह कैसे खाना है आपको खाने में फल और सलाद पर अधिक ध्यान देना जब भी भूख लगे आप इनको खाइए इससे आपकी पूरी बॉडी का मेटाबॉलिज्म सिस्टम ठीक होगा।

शरीर को चलाने के लिए जिस भोजन की आवश्यकता है शरीर को वह भोजन मिलने लगेगा और शरीर के अंदर से अनेक बीमारियां अपने आप ठीक होने लगेंगी।

व्यायाम में हमको कौन सा व्यायाम करना है

जो व्यायाम आपको पसंद हो वही करें चाहे तो मॉर्निंग वॉक पर जा सकते हैं, जिम जा सकते हैं, योग, सूर्य नमस्कार कर सकते हैं तैराकी ( स्विमिंग) कर सकते हैं। कोशिश करें यह सब शौच आदि से निवृत होकर सुबह करें।

यदि सुबह नही कर पाते है तो शाम को करें। इसके अलावा 10 मिनट कपाल भांति और 10 मिनट अनुलोम विलोम अवश्य करें। यह बात अवश्य मान लीजिए कि कुछ करोगे तभी पाओगे।

संक्षेप में यदि हम कहें मोटापे को कैसे कम करना है तो सीधा सा उत्तर है अपने आहार को ठीक करना है और प्रतिदिन की दिनचर्या में व्यायाम को शामिल करना है।

बस यही सार है और इसी को आपने मंत्र बना लिया तो आपको मोटापा कम करने से कोई नहीं रोक सकता।

मुझे उम्मीद है कि प्राकृतिक चिकित्सा की यह जानकारी आपको पसंद आई होगी। यह जानकारी और लोंगो को मिल सके इसके लिए मेरा आपसे निवेदन है कि मेरे स्वस्थ मानव अभियान व अंग्रेजी दवाओं से मुक्ति के लिए इस लेख को आप फेसबुक व्हाट्सएप आदि पर शेयर कर दीजिए।