जिंदगी के आनंद एंजॉय को कौन लेता है

आज बात करते हैं आनंद कौन लेता है। हर व्यक्ति आज यह कह रहा है कि एंजॉय लेना है। मजा लेना है। तो यह मजा कौन लेता है। मजा शरीर लेता है। तो हमको शरीर को स्वस्थ करना होगा। जितना स्वस्थ शरीर होगा उतना मजा होगा।

आज की दुनिया में हर व्यक्ति भागम भाग में लगा है। लेकिन उसका शरीर स्वस्थ नहीं है।

वह कोशिश कर रहा है कि मजा अधिकतम लिया जाए तो अधिकतम मजा स्वस्थ शरीर में आएगा। बीमार शरीर क्या मजा लेगा। जिधर देखो उधर भागम भाग लगी है लेकिन शरीर की स्थिति ऐसी है कि उसमें किसी भी मजा को लेने के लिए दम ही नहीं है।

शरीर को स्वस्थ बनाने के लिए थोड़ी मेहनत करनी पड़ेगी

व्यक्ति मेहनत करना नहीं चाहता है। इसी वजह से ही आज मोटापा, डायबिटीज, ब्लड प्रेशर अन्य अनेक तरह की लाइफ स्टाइल की बीमारियां होती चली जा रही है।

अब क्या होता है उसी स्थिति में एलोपैथिक दवाइयां खाते चले जा रहे हैं। एलोपैथिक दवाइयों को खाकर अनेक साइड इफेक्ट्स हो जाते हैं।

कैंसर की बीमारी में लोगों की मौत केंसर से कम, कैंसर के इलाज से ज्यादा होती हैं। क्योंकि जिस प्रकार केंसर का इलाज दिया जाता है उससे उनके शरीर का सर्वनाश हो जाता है।

जीवन को अनुशासित जीना चाहिए

अनुशासित जीवन में जिंदगी का आनंद भी लेना चाहिए एवं अपने जीवन का उद्देश्य पूरा करना चाहिए। अति दुनिया में अति हर चीज की बुरी होती है हमारा जो आज का शरीर है वह पूर्व में हमने कैसे जीवन जिया है इस बात का परिणाम है।

हमारे घुटनों में दर्द है, हड्डियों में दर्द, जोड़ों में दर्द है, डायबिटीज, ब्लड प्रेशर है, थायराइड है, कब्ज, गेस, एसिडिटी, स्किन की समस्या कोई एक दिन में पैदा नहीं हुई है। यह लंबे समय का परिणाम है। जो हमारे शरीर के ऊपर प्रकट होता है।

बीमारी 1 दिन में नहीं हुई है

हम कहते हैं यह बीमारी हो गई। यह कोई 1 दिन में नहीं हुई है। पूर्व में हमारे रहन सहन और खानपान सही दिशा में नहीं रहे हैं। उसका यह आज परिणाम है। और यदि आज हम सही दिशा में खानपान और रहन-सहन कर लेंगे, तो आने वाले समय में हमारा शरीर स्वस्थ होगा और जिंदगी के पूरे आनंद ले पाएंगे।

मोटापा कम करने का प्राकृतिक तरीक़ा